World’s Largest Stock Exchanges – भारत का स्टॉक मार्केट अब दुनिया मे 5वे स्थान पर

Largest Stock Exchanges in the World

Largest Stock Exchanges in the World: दुनिया के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज – फ्रांस को पीछे छोड़कर, भारत ने अब दुनिया के पाँच सबसे बड़े स्टॉक मार्केट्स की सूची में अपनी जगह बना ली है। जनवरी के महीने में, फ्रांस का स्टॉक मार्केट भारत को 5 वें स्थान से 6 वें स्थान पर ले आया था, लेकिन फिर से भारत ने अपनी 5 वें स्थिति को बनाए रखा है। भारतीय स्टॉक मार्केट ने मार्च महीने से काफी बढ़त दिखाई है, जिसका कारण है कि विदेशी निवेशक भारत में निवेश करना चाहते हैं, और भारत की मैक्रोइकोनॉमिक स्थिति में सुधार हो रहा है।

भारत का स्टॉक मार्केट कैपिटलाइजेशन (यानी स्टॉक मार्केट का आंकड़ा) आज 4.1 ट्रिलियन डॉलर है। दुनिया के शीर्ष 10 स्टॉक मार्केट में, भारत अब पाँचवें स्थान पर है। इस साल से लेकर अब तक, भारत का स्टॉक मार्केट 330 बिलियन डॉलर से अधिक हो गया है।

5 Largest Stock Exchanges in the World:

जब भारतीय स्टॉक मार्केट को अमेरिकी स्टॉक मार्केट के साथ तुलना की जाती है, तो अमेरिका का स्टॉक मार्केट 48 ट्रिलियन डॉलर का है। इसके बाद, चीन है, जिसका स्टॉक मार्केट साइज 9.7 ट्रिलियन डॉलर है। तीसरे स्थान पर जापान है, जिसका स्टॉक मार्केट साइज 6 ट्रिलियन डॉलर है, और चौथे स्थान पर हॉन्ग कॉन्ग है, जिसका स्टॉक मार्केट साइज 4.7 ट्रिलियन डॉलर है। फ्रांस को पीछे छोड़कर, भारत का स्टॉक मार्केट 4.1 ट्रिलियन डॉलर के साथ स्थान बनाए हुए है।

एक प्रमुख विदेशी ब्रोकरेज फर्म, Jefferies ने इसे तेजी से बढ़ते हुए मार्केट के रूप में बताया है। उनके अनुसार, बस कुछ समय के बाद ही BSE Sensex 1,00,000 के पार पहुंच सकता है, जिससे भारतीय और विदेशी निवेशकों को नए निवेश के अवसर मिलेंगे।

निफ्टी और सेंसेक्स All Time High पर:

भारतीय स्टॉक मार्केट तेजी से बढ़ रहा है, और सेंसेक्स और निफ्टी दोनों हाल ही में 2 दिनों में 0.6% से बढ़ गए हैं। Nifty 20,826.95 पॉइंट्स पर पहुंच चुका है, और सेंसेक्स भी 69,336.44 पॉइंट्स पर है।

भारत के स्टॉक मार्केट के तेजी से बढ़ने के 5 कारण:

  1. भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सरकार: हाल ही में हुए राज्य चुनावों में, भारतीय जनता पार्टी ने 5 में से 3 राज्यों में जीत हासिल की है – छत्तीसगढ़, राजस्थान, और मध्यप्रदेश, जिससे लोगों के आत्मविश्वास में वृद्धि हुई है।
  2. विदेशी पूंजी निवेश: विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) भारतीय मार्केट में बड़े पैम्बर पर निवेश कर रहे हैं, जिससे भारत का स्टॉक मार्केट बढ़ रहा है।
  3. US Bond Yield Down: अमेरिका के मार्केट में जो बॉन्ड्स होते हैं, उनका यील्ड (सरल भाषा में कहें तो ब्याज) कम हो गया है, जिसके कारण बाहरी देशों में निवेशकों को भारत में निवेश करने का आत्मविश्वास हो रहा है।
  4. स्थिर ब्याज दरें: चाहे यह बाहरी मार्केट हो या भारतीय, कुछ समय से ब्याज दरें काफी स्थिर हैं, जिससे मार्केट में उतार-चढ़ाव कम है।
  5. मजबूत मैक्रोज: मैक्रोज का मतलब है भारत की आर्थिक स्थिति काफी स्थिर है। भारत का जीडीपी जुलाई से सितंबर तक 7.6% से बढ़ गया है।

Also Read: Jyothy Labs Story: बहुत बार फेल हुए, लेकिन ₹5000 उधार लेके बना डाली 14000 करोड़ की कंपनी!

Disclaimer: – ध्यान दें कि, Dailynewsupdate247.in पर लिखे गए सभी पोस्ट आपकी जानकारी के लिए हैं, ताकि आप सूचित रहें और सही निर्णय ले सकें। इन पोस्ट्स को वित्तीय सलाह ने समझा है। धन्यवाद।”