Jyothy Labs Story: बहुत बार फेल हुए, लेकिन ₹5000 उधार लेके बना डाली 14000 करोड़ की कंपनी!

Jyothy Labs Story

ज्योति लैब्स की कहानी

आज हम आपके लिए एक ऐसी व्यवसायिक यात्रा की कहानी लेकर आए हैं, जिससे आपको बहुत कुछ सीखना होगा। आपने उजाला नीला नाम तो सुना ही होगा और कभी न कभी इसका उपयोग भी किया होगा। उजाला नीला 90 के दशक में काफी लोकप्रिय था और घर-घर में इसका उपयोग कपड़े धोने के लिए किया जाता था। आज भी बहुत से लोग अपने कपड़े धोने के लिए उजाला नीले का ही उपयोग करते हैं। क्या आप जानते हैं कि उजाला नीला किस कंपनी का है और इसके संस्थापक कौन हैं?

अगर नहीं, तो आज के इस लेख में हम उजाला नीला बनाने वाली कंपनी ज्योति लैब्स की कहानी और उनके संस्थापक एम.पी. रामचंद्रन जी के बारे में जानेंगे कि उन्होंने इस कंपनी को कैसे शुरू किया और आज इतनी बड़ी सफलता कैसे प्राप्त की। आपको यह भी बता दें कि आज ज्योति लैब्स कंपनी की वैल्यूएशन 14,000 करोड़ रुपए से अधिक है।

ज्योति लैब्स की शुरुआत

एम.पी. रामचंद्रन भारत के केरल राज्य के रहने वाले हैं। उन्होंने अपनी पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद एकाउंटेंट के रूप में नौकरी शुरू की, लेकिन बचपन से ही वे अपना खुद का व्यवसाय करना चाहते थे। वे व्यवसाय में कुछ नया करना चाहते थे।

एक दिन, रामचंद्रन ने सोचा कि बाजार में अभी तक कपड़ों के लिए कोई अच्छा ब्लीच नहीं है। क्यों न मैं एक नया ब्लीच बनाऊं जिससे कपड़े अच्छे से धुल सकें और इसी से मैं अपना व्यवसाय भी शुरू कर दूं।

इसी विचार से रामचंद्रन ने अपने घर के किचन में ब्लीच बनाने का काम शुरू कर दिया। ब्लीच बनाते समय उन्हें कई बार असफलता मिली, लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी और कुछ सालों की मेहनत के बाद उन्हें एक ऐसा फार्मूला मिला जिससे बाजार में एक नया ब्लीच लाया जा सकता था।

Jyothy Labs Story Interview

5,000 रुपए के कर्ज से शुरू हुई कंपनी

रामचंद्रन ने अपने इस व्यवसाय को साल 1983 में केरल में ही शुरू किया। ज्यादा निवेश के लिए पैसे नहीं होने के कारण उन्होंने अपने पारिवारिक जमीन पर ही एक अस्थायी कंपनी शुरू की। जिसके लिए उन्हें अपने भाई से 5,000 रुपए का कर्ज भी लेना पड़ा। आज उनकी मेहनत के कारण यह 5,000 रुपए का कर्ज से शुरू हुई कंपनी करोड़ों की बन चुकी है।

उन्होंने अपनी बेटी ज्योति के नाम पर अपनी कंपनी का नाम रखा, जिसे आज हम सभी ज्योति लैब्स के नाम से जानते हैं। उस समय उन्होंने अपनी लैब में अपने अनुभव और फॉर्मूले की मदद से उजाला सुप्रीम लिक्विड फैब्रिक ब्लीच बनाया था, जिसने बाजार में आते ही धूम मचा दी थी।

Jyothy Labs Story Overview

Article Title Jyothy Labs Story
Startup Name Jyothy Labs Limited
Founder Moothedath Panjan Ramachandran
Homeplace Kerala, India
CEO (2023) Moothedath Jyothy
Official Website https://jyothylabs.com/

घर-घर जाकर बेचे थे उत्पाद

ज्योति लैब्स के शुरुआती दिनों में इस कंपनी में संस्थापक रामचंद्रन के साथ सिर्फ 6 लोग थे, जिन्होंने इस कंपनी को आगे बढ़ाने में काफी मेहनत की। कंपनी द्वारा उजाला सुप्रीम लिक्विड फैब्रिक ब्लीच बनाने के बाद इसे उस समय कंपनी के इन्हीं 6 लोगों ने घर-घर जाकर बेचना शुरू किया था।

जिसके बदौलत कुछ समय बाद उजाला ब्लीच ने लोगों के दिल में अपनी जगह बना ली थी और उसके बाद लोगों ने खुद ही इसे खरीदना शुरू कर दिया था। इस एकमात्र उत्पाद ने ज्योति लैब्स को ऊंची सफलता दिलाई थी, जिसके कारण आगे जाकर उन्होंने कई अन्य उत्पादों को लॉन्च किया था।

Jyothy Labs Story Interview

आज बन चुकी है 14,000 करोड़ की कंपनी

रामचंद्रन की मेहनत और सालों की लगन के कारण आज ज्योति लैब्स कंपनी की वैल्यूएशन 14,000 करोड़ रुपए से अधिक हो चुकी है और आज लिक्विड फैब्रिक इंडस्ट्री में ज्योति लैब्स एक बहुत बड़ा नाम बन चुकी है।

रामचंद्रन ने हमेशा खुद पर विश्वास रखा और असफलताओं के बावजूद भी कोशिश करते रहे। यही कारण है कि उन्होंने एक सफल व्यवसायिक साम्राज्य खड़ा कर लिया है।

हम आशा करते हैं कि इस लेख से आपको Jyothy Labs Story की सफलता की कहानी के बारे में जानकारी मिल गई होगी। इस कहानी से हम सभी को प्रेरणा मिलती है कि अगर हममें लगन और मेहनत हो तो हम किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आप भी एक उद्यमी बनने का सपना देखते हैं तो Jyothy Labs Story की कहानी आपके लिए एक प्रेरणा है। इस कहानी से आप सीख सकते हैं कि कैसे एक छोटे से विचार और कड़ी मेहनत से एक सफल व्यवसाय खड़ा किया जा सकता है।

ज्योति लैब्स की कहानी को अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें ताकि वे भी इस प्रेरणादायक कहानी से लाभान्वित हो सकें।